India vs South Africa: पांचवां वनडे कल, सीरीज जीत को बेताब टीम इंडिया के लिए यह बात बनी परेशानी का कारण..

चौथे वनडे मैच में मिली हार से ‘हैरान’ विराट कोहली की टीम इंडिया मंगलवार को पांचवें वनडे मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जीत के मजबूत इरादे से मैदान में उतरेगी. टीम इंडिया यदि कल के मैच में जीती तो दक्षिण अफ्रीका में पहली वनडे सीरीज अपने नाम करके इतिहास रच देगी. छह मैचों की वनडे सीरीज में भारतीय टीम इस समय 3-1 से आगे है और वह चाहेगी कि वह इस बढ़त का फायदा उठाकर पोर्ट एलिजाबेथ में ही सीरीज पर कब्‍जा जमा ले. टीम ने डरबन में पहला मैच छह विकेट, सेंचुरियन में दूसरा मैच नौ विकेट और केपटाउन में तीसरा मैच 124 रन से जीता था. हालांकि मेजबान टीम ने बारिश से प्रभावित चौथे वनडे में पांच विकेट से जीत हासिल कर वापसी की. इस अहम मैच से पहले केदार जाधव की फिटनेस टीम इंडिया के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है. जाधव को केपटाउन में हैमस्ट्रिंग चोट लगी थी और वह पिछला मैच भी नहीं खेल सके थे. जाधव की गैरमौजूदगी में भारत एक भरोसेमंद गेंदबाजी विकल्प गंवा देगा.

दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजी लाइन अप और भारत के कलाई के स्पिनरों के बीच अब भी मुकाबला अहम है. जोहानेसबर्ग में हालांकि बारिश के कारण हुई दो बार की बाधा ने भारत की बल्लेबाजी और गेंदबाजी में लय बिगाड़ दी. बारिश के कारण लक्ष्य नए सिरे से निर्धारित किया गया और एबी डिविलियर्स के जल्दी पेवेलियन लौटने के बावजूद मेजबानों को इसे हासिल करने में जरा भी परेशानी नहीं हुई. यह मैच टी20 की तर्ज पर हुआ जिसमें डेविड मिलर और हेनरिक क्लासन ने भारत के कलाई के स्पिनरों के खिलाफ आक्रामक बल्लेबाजी कर जीत छीन ली. इस मैच में भारत को कैच छोड़ने के अलावा मिलर को ‘नो बॉल’ फेंकना भारी पड़ा. लेकिन इससे यह साबित नहीं होता कि दक्षिण अफ्रीकी बल्‍लेबाजों ने युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की कलाई की स्पिन का सामना करना सीख लिया है.

मैच में भारतीय टीम के कप्‍तान विराट कोहली की कप्‍तानी पर भी कुछ सवाल उठे. भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह का अच्छी तरह इस्तेमाल नहीं किया गया. कप्‍तान ने स्पिनरों पर ही ज्यादा भरोसा दिखाया जबकि वे दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों की आक्रामकता को रोकने में असफल साबित हो रहे थे. इसे लिहाज से पोर्ट एलिजाबेथ में भारतीय टीम का चयन काफी अहम रहेगा. केदार जाधव की फिटनेस पर अब भी सवालिया निशान बना हुआ है जाधव में स्पिन गेंदबाजी करने की काबिलियत है और वह इसे परिस्थितियों के अनुकूल ढाल लेते हैं जिससे वह चहल और यादव के साथ अच्छी तरह घुलमिल जाते हैं. उनकी अनुपस्थिति में भारत के पास ज्यादा विकल्प नहीं हैं. वहीं रोहित शर्मा ने वनडे में अंतिम बार जनवरी 2016 में पर्थ में गेंदबाजी की थी. श्रेयस अय्यर भी लेग ब्रेक बॉलिंग कर लेते हैं लेकिन उन्होंने अपनी पदार्पण सीरीज में श्रीलंका के खिलाफ सिर्फ एक ही ओवर फेंका था. इन दोनों में से कोई भी जाधव जैसा भरोसेमंद विकल्प मुहैया नहीं कराता. कोहली भी एक अन्य दावेदार हैं लेकिन वह मध्‍यम गति के गेंदबाज हैं.

मध्यक्रम में भले ही समस्या हो लेकिन टीम को जाधव की बल्लेबाजी के बजाय उनकी गेंदबाजी की काफी कमी खलेगी जिससे संकेत मिलता है कि भारतीय टीम का संतुलन अब भी सर्वश्रेष्ठ नहीं है.अजिंक्य रहाणे ने चौथे नंबर पर वापसी करते हुए 79 रन की पारी के बाद 11 और आठ रन बनाए हैं. हार्दिक पंड्या का बल्ले से दौरा काफी खराब रहा है, उन्होंने पिछली दो पारियों में 14 और 9 रन बनाए हैं. सिर्फ महेंद्र सिंह धोनी ने ही मध्यक्रम में 43 गेंद में नाबाद 42 रन बनाए. हालांकि सीरीज का स्कोर इस पहलू को पूरी तरह छुपा लेता है. रोहित शर्मा की खराब फॉर्म के बावजूद भारत का शीर्ष बल्लेबाजी क्रम मजबूत है. रोहित ने पहले चार वनडे में 40 रन बनाए हैं और 12 मैचों में उनका वनडे औसत महज 11.45 का है.

कोहली (393) और शिखर धवन (271) ने मिलकर बाकी बचे बल्लेबाजों (239) द्वारा मिलकर बनाये गए रनों से करीब तीन गुना रन बनाये हैं. यह निश्चित रूप से भारतीय थिंक टैंक के लिए चिंता की बात होगा. इस बात की अनदेखी नहीं की जा सकती कि दक्षिण अफ्रीका भारतीय लाइन की कमजोरी का फायदा उठाकर कोहली और धवन को सस्ते में आउट करना चाहेगा.यह देखना होगा कि मेजबान टीम किस गेंदबाजी संयोजन को उतारती है.

दोनों टीमें इस प्रकार हैं..

भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमरा, मोहम्मद शमी, शार्दुल ठाकुर।

दक्षिण अफ्रीका: एडेन मार्कराम (कप्तान), हाशिम अमला, जेपी डुमिनी, इमरान ताहिर, डेविड मिलर, मोर्ने मोर्केल, क्रिस मॉरिस, लुंगी एंगिडी, एंडिले फेलुकवायो, कागिसो रबाडा, तबरेज शम्सी, खायेलिहले जोंडो, फरहान बेहारडियन, हेनरिक क्लासन (विकेटकीपर), एबी डिविलियर्स.

मैच भारतीय समयानुसार शाम साढ़े चार बजे शुरू होगा.

ad

Recommended For You

About the Author: news vandana

Vandana Sharma has, entered the world of abstract art from portrait pictures after learning and passing through the fine-tuned and refined process. And it has not happened in a single day. In fact, it is not possible without imbibing the multi-dimensions of the art tradition with keen interest and she has followed the tradition beautifully.